online payment: UPI फ्रॉड से बचना होगा अब आसान, बड़े काम आएंगे ये टिप्स – how to secure upi transactions and prevent fraud

0
11


नई दिल्ली: कैशलेस ट्रांजेक्शन और ऑनलाइन पेमेंट के लिए यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस या यूपीआई पेमेंट के सबसे पसंदीदा तरीकों में से एक है। पेमेंट का तरीका कई स्टेक होल्डर्स के साथ कई फाइेंशियल संस्थानों में काम करती है। आसानी से पेमेंट और प्रदर्शन यूपीआई को एक लोकप्रिय ऑप्शन बनाती है। मगर जब किसी प्लेटफॉर्म का इतना अधिक इस्तेमाल हो रहा है तो ऐसे में फ्रॉड और स्कैम की संभावना भी बढ़ जाती है। यूपीआई इकोसिस्टम अलग नहीं है। बीते कुछ सालों में यूपीआई यूजर्स से संबंधित कई स्कैम सामने आए हैं। ऐसे में पेमेंट का आसानी तरीका लोगों के लिए नुकसान दायक हो जाता है। हालांकि फ्रॉड की संभावना को कम करने के लिए तरीके हैं। पेमेंट या पेमेंट रिसीव करने के लिए यूपीआई का इस्तेमाल करते हुए यूजर्स को कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

इन 5 तरीकों से आप यूपीआई पर फ्रॉड से बच सकते हैं।

अनजान नंबर और यूजर्स से रहें सावधान
अगर आपको कोई अंजान नंबर या यहां तक कि कोई ऐसा यूजर मिलता है, जिस पर आपको शक है तो किसी भी बातचीत से हमेशा दूर रहना ही बेहतर है। आपको खुले वेब सोर्स पर शेयर किए गए फोन नंबर से खासतौर पर सावधान रहना चाहिए। जैसे कि खासतौर पर खाने-पीने की दुकानों के फोन नंबर पर भुगतान के वक्त सावधान रहना चाहिए। ट्रांजेक्शन में आगे बढ़ने से पहले व्यक्ति की पहचान को दोबारा चेक करना हमेशा सबसे अच्छा तरीका है।

2. पैसे प्राप्त करने के लिए कभी भी पिन न करें दर्ज
फ्रॉड की सबसे अधिक शिकातय इसी को लेकर होती हैं तो इससे सावधान रहना चाहिए। पैसे पाने के लिए बैंक कभी भी आपका पिन नहीं मांगेगा। जालसाज पैसे भेजने का दावा करते हुए ऐसा करने की कोशिश करते हैं। फ्रॉड रिसीवर से पैसे स्वीकार करने के लिए अपना पिन दर्ज करने के लिए कहते हैं, जबकि ऐसा नहीं होता है। सभी मामलों में यूजर्स इस जाल में फंसकर पर अपना पैसा खो देता है।

3. अंजान पेमेंट रिक्वेस्ट
अधिकतर यूपीआई ऐप में एक स्पैम फिल्टर होता है जो कुछ यूपीआई आईडी से पेमेंट रिक्वेस्ट को ट्रैक करता है। ऐसी किसी भी पहचान के सामने आने पर आपको सावधान किया जाएगा। चेतावनी आपके लिए एक बड़ा रेड फ्लैग होना चाहिए। ट्रांजेक्शन के साथ तभी आगे बढ़ें जब आप 100 प्रतिशत सुनिश्चित हों कि दूसरी तरफ पर मौजूद व्यक्ति फ्रॉड नहीं है। आपको या तो ‘पे’ या ‘डिक्लाइन’ का ऑप्शन मिलेगा। थोड़ी सा भी शक होने पर आपको ‘डिक्लाइन’ करना चाहिए। अगर आप ‘पे’ ऑप्शन पर क्लिक करते हैं, तो कोई भी स्थिति हो आपको कभी भी पैसा प्राप्त नहीं होगा।

4. फेक यूपीआई ऐप
एटीएम कार्ड मशीन के युग में कार्ड स्किमिंग के बहुत सारी घटनाएं होती हैं। असली कार्ड के ऊपर लगाई गई फेक मशीन के जरिए से आपके कार्ड के डिटेल्स को रिकॉर्ड करने का तरीका है। इसी प्रकार फेक UPI ऐप पेमेंट करने या UPI के जरिए प्राप्त करने के बहाने आपकी डिटेल्स को पाने की कोशिश करते हैं। ऐसे ऐप आमतौर पर असली बैंक ऐप के समान दिखने के लिए डिजाइन किए जाते हैं और आसानी से डाउनलोड के लिए उपलब्ध होंगे। अगर आप गलती से नकली ऐप डाउनलोड और इंस्टॉल कर लेते हैं तो यह आपके निजी डाटा को धोखेबाजों के साथ शेयर कर देगा जो उन्हें आपके अकाउंट से पैसे चुराने की अनुमति देगा। सिटी बैंक की एक एडवाइजरी में दावा किया गया है कि यूजर्स को फेक ऐप जैसे Modi Bhim, BHIM Payment-UPI Guide, Bhim Modi App और BHIM Banking Guide आदि से सावधान रहना चाहिए।

5. इन बुनियादी बातें को आपको याद रखना चाहिए।
कभी भी अपना पिन अजनबियों को न बताएं।
एंटी वायरस और बायोमेट्रिक रिकग्निशन सॉफ्टवेयर इंस्टॉल रखना चाहिए।
अंजान सोर्स से आए ईमेल या लिंक को कभी भी न खोलना चाहिए।
अपने बैंक के साथ अपनी डिटेल्स को अपडेट रखिए।
सिर्फ सेफ वाईफाई कनेक्शन का इस्तेमाल करना चाहिए, जिस पर आप भरोसा करते हैं और खुले नहीं।
अपनी फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन और बैंक अकाउंट की डिटेल्स पर नजर रखिए और अपने अकाउंट में संदिग्ध व्यवहार पर नजर रखें।
अगर आपको कुछ भी गलत लगे तो तुरंत अपने बैंक को अलर्ट करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here