nawabs and their poor conditions

0
12


लेखकः कृष्ण प्रताप सिंह
उर्दू के अजीम शायर मीर तकी मीर (1723-1810) के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने दिल्ली को उजड़ते और लखनऊ को आबाद होते देखा था। साठ पार की उम्र में नवाब आसफउद्दौला के बुलावे पर वह अपनी नई तराश और नए अंदाज पर इतराते लखनऊ में ‘दाखिल-ए-महफिल’ हुए तो लखनवी उन पर हंसे। उन्हें खुद पर हंसता देख अपना परिचय देते हुए उन्होंने कहा था- ‘दिल्ली जो इक शहर था आलम में इंतिखाब, रहते थे मुंतखब ही जहां रोजगार के। उसको फलक ने लूट के वीरान कर दिया, हम रहने वाले हैं उसी उजड़े दयार के।’

लेकिन आगे चलकर अंग्रेजों ने दिल्ली और लखनऊ दोनों के हुक्मरानों को बेबस करके उनका हाल कमोबेश एक जैसा ही कर डाला। दिल्ली में बादशाह बहादुरशाह जफर (1775-1862) की हुकूमत लाल किले तक सीमित कर दी तो लखनऊ में नवाब वाजिद अली शाह (1822-1887) की हुकूमत कैसरबाग की ऐतिहासिक पीली चहारदीवारियों तक। इन दोनों की बदकिस्मती इस मायने में भी एक जैसी थी कि 11 फरवरी, 1856 को वाजिद अली शाह से अवध का राजपाट छीनकर उन्हें कलकत्ता स्थित मटियाबुर्ज निर्वासित किया जाना देश के 1857 के स्वतंत्रता संग्राम का सबब बना, तो बहादुरशाह जफर को रंगून निर्वासित होकर उसकी विफलता की कीमत चुकानी पड़ी।

अलबत्ता, विफल होने के बावजूद उस संग्राम ने जहां जफर का देश के आखिरी मुगल बादशाह का तमगा बरकरार रखा, वहीं वाजिद अली शाह से अवध के आखिरी नवाब का तमगा छीनकर उनके बेटे बिरजिस कदर के नाम कर दिया। इतिहास गवाह है कि उन दिनों बिरजिस कदर अपनी वीरांगना मां बेगम हजरत महल के साथ मिलकर अंग्रेजों से दिल्ली के पतन के बाद तक लोहा लेते रहे। फिर भी इतिहासकार वाजिद और जफर की तुलना से परहेज बरतते हैं। कारण यह कि क्रूर अंग्रेजों ने रंगून में निर्वासन के दौरान जफर को जितना सताया, वाजिद को उसके दसवें हिस्से के बराबर भी नहीं सताया गया। इसलिए कई इतिहासकार वाजिद की तुलना 17वें मुगल बादशाह शाहआलम द्वितीय से करना ज्यादा पसंद करते हैं।

प्रसंगवश, शाहआलम द्वितीय (1728-1806) की ताजपोशी के वक्त तक मुगल सल्तनत ढहने लग गई थी। मराठों की मदद से उन्हें जैसे-तैसे बादशाहत तो मिल गई थी, लेकिन उसका इकबाल इस कदर जाता रहा था कि फारसी में कहावत चल निकली थी- ‘सल्तनत-ए-शाहआलम अज दिल्ली ता पालम।’ यानी शाहआलम की हुकूमत दिल्ली से पालम तक ही है। 1856 में नवाबों के आखिरी दिनों में लखनऊ में वाजिद की बेबसी भी कुछ ऐसी ही थी। तिसपर विडंबना यह कि कई बार उनके सेवक तक उनकी इस बेबसी का मजाक उड़ाने पर उतर आते थे।

एक दिन तो गुलनार नाम की उनकी एक मुंहलगी कनीज ने हद ही कर दी। ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा जारी किया गया चांदी का एक विक्टोरियन सिक्का गुलाबी जरीदार पोश से ढकी तश्तरी में लेकर वह वाजिद के पास आई और बोली, ‘सुल्तान-ए-आलम! कंपनी का यह सिक्का अब सारे लखनऊ में जोर-शोर से चलने लगा है, जबकि आपके सिक्के आंखों से ओझल हो चले हैं। अब सिर्फ कैसरबाग ही है, जहां आपकी हुकूमत बाकी है और इसका भी कुछ ठिकाना नहीं कि कब तक बाकी रहेगी।’

इकबाल वाले दिन होते तो वाजिद उस गुस्ताख कनीज को मजा चखाए बगैर न रहते। लेकिन तब तक ईस्ट इंडिया कंपनी के अफसरों ने उनके कस-बल इतने ढीले कर दिए थे कि वो झुंझलाने के सिवाय कुछ नहीं कर सकते थे। ऐसा नहीं कि वह विक्टोरियन सिक्का देखकर उन्हें गुस्सा नहीं आया। बहुत आया, लेकिन वह अंग्रेजों से ज्यादा खुद की बेबसी के खिलाफ था। उन्होंने तश्तरी में रखे सिक्के पर अपनी नजरें कुछ इस तरह गड़ा दीं, जैसे उसे अपनी निगाहों की गरमी से ही भस्म कर देना चाहते हों। फिर दाहिने हाथ से उठाया और अंगूठे व उंगलियों के बीच इतनी जोर से रगड़ दिया कि न अंगूठे की तरफ की उसकी विक्टोरिया की छाप सलामत रही, न उंगलियों की तरफ की इबारत। फिर कनीज को हुक्म दिया, ‘इसे फौरन बेलीगारद के अहाते में फेंक आओ, रेजीडेंसी में।’ कनीज हुक्म बजाकर लौटी तो उन्हें लगा कि अंग्रेजों से उनका इंतकाम पूरा हो गया है। निस्संदेह, यह इकबाल का नहीं, बेबसी का इंतकाम था।

डिसक्लेमर : ऊपर व्यक्त विचार लेखक के अपने हैं

window.fbAsyncInit = function() {
// init the FB JS SDK
FB.init({appId: ‘117787264903013’,oauth:true, status: true, cookie: true, xfbml: true});
// Additional initialization code such as adding Event Listeners goes here
};
// Load the SDK asynchronously
(function(){
// If we’ve already installed the SDK, we’re done
if (document.getElementById(‘facebook-jssdk’)) {return;}

// Get the first script element, which we’ll use to find the parent node
var firstScriptElement = document.getElementsByTagName(‘script’)[0];

// Create a new script element and set its id
var facebookJS = document.createElement(‘script’);
facebookJS.id = ‘facebook-jssdk’;

// Set the new script’s source to the source of the Facebook JS SDK
facebookJS.src=”https://connect.facebook.net/en_US/all.js”;

// Insert the Facebook JS SDK into the DOM
firstScriptElement.parentNode.insertBefore(facebookJS, firstScriptElement);
}());

function checkLogin(){
TimesGDPR.common.consentModule.gdprCallback(function(){
if(!window._euuser){
require([“login”],function(login){
login.init();
});
}});
}
function callfunctiononload(){
/*if(isQuillEnabled){
var scrt=document.createElement(‘script’);
scrt.type=”text/javascript”;
scrt.src=”https://blogs.navbharattimes.indiatimes.com/wp-content/themes/langblogstheme/js/quill-compiled.js?ver=1″;
document.getElementsByTagName(“head”)[0].appendChild(scrt);

// all cool browsers
try { scrt.onload = applyingQuill; } catch(ex){}
// IE 6 & 7
scrt.onreadystatechange = function() {
if (this.readyState == ‘complete’) {
try { applyingQuill(); } catch(ex){}
}
}
} else {
try { applyingComments(); } catch(ex){}
}*/
if(isQuillEnabled){
try { applyingQuill(); } catch(ex){}
} else {
try { applyingComments(); } catch(ex){}
}
}
function applyingQuill(){
try { applyingQuillComments(); } catch(ex){}
if($(‘#search-form-field’).length > 0){
Quill.init(‘search-form-field’, false, null, null, ‘hindi’);
Quill.setLanguage(‘search-form-field’, ‘hindi’);
}
if($(‘#search-form-top-field’).length > 0){
Quill.init(‘search-form-top-field’, false, null, null, ‘hindi’);
Quill.setLanguage(‘search-form-top-field’, ‘hindi’);
}
/*if($(‘#search-form-topmobile-field’).length > 0){
Quill.init(‘search-form-topmobile-field’, false, null, null, ‘hindi’);
Quill.setLanguage(‘search-form-topmobile-field’, ‘hindi’);
}*/
}
$(function(){
callfunctiononload();
require([“tiljs/event”],function(event){
event.subscribe(“user.login”,function(){
$( ‘#timespointframe’ ).attr( ‘src’, function () { return $( this )[0].src; } );
});
event.subscribe(“user.logout”,function(){
$( ‘#timespointframe’ ).attr( ‘src’, function () { return $( this )[0].src; } );
});
})

});
$(window).load(function() {
var themeClass=”post-template-default single single-post postid-41228 single-format-standard group-blog masthead-fixed full-width singular style_nbt”;
$(‘body’).addClass(themeClass);
});

var showInitAd = ‘None’;
var initAdUrl=””;
if(_getCookie(‘intAd’) !== ‘1’){
if(isMobile.matches){
if(showInitAd == ‘Both’ || showInitAd == ‘WAP’){
initAdUrl=”https://blogs.navbharattimes.indiatimes.com/defaultinterstitial?v=mob”;
}
} else {
if(showInitAd == ‘Both’ || showInitAd == ‘WEB’){
initAdUrl=”https://blogs.navbharattimes.indiatimes.com/defaultinterstitial”;
}
}
}
if(initAdUrl){
_setCookie(‘prevurl’,window.location.href,1);
window.location.replace(initAdUrl);
}
var languageChannelName=”nbt”;
var siteId = ‘9830e1f81f623b33106acc186b93374e’;
var domainName=”indiatimes.com”;
var ofcommenthostid = ‘294’;
var ofcommentchannelid = ‘2147478026’;
var appid = ‘117787264903013’;
var commentText = {“name_required”:”Please enter your name.”,”location_required”:”Please enter your location.”,”captcha_required”:”Please enter captcha value.”,”name_toolong”:”Name cannot be longer than 30 chars.”,”name_not_string”:”Name can only contain alphabets.”,”location_toolong”:”Location cannot be longer than 30 chars.”,”location_not_string”:”Location can only contain alphabets.”,”captcha_toolong”:”Captcha cannot be longer than 4 chars.”,”captcha_number_only”:”Captcha value can only be a number.”,”email_required”:”Please enter your email address.”,”email_invalid”:”Please enter a valid email address.”,”captcha_invalid”:”Please enter a valid captcha value.”,”minlength”:”You can t post this comment as the length it is too short. “,”blank”:”You can t post this comment as it is blank.”,”maxlength”:”You have entered more than 3000 characters.”,”popup_blocked”:”Popup is blocked.”,”has_url”:”You can t post this comment as it contains URL.”,”duplicate”:”You can t post this comment as it is identical to the previous one.”,”abusive”:”You can’t post this comment as it contains inappropriate content.”,”self_agree”:”You can’t Agree with your own comment”,”self_disagree”:”You can’t Disagree with your own comment”,”self_recommend”:”You can’t Recommend your own comment”,”self_offensive”:”You can’t mark your own comment as Offensive”,”already_agree”:”You have already Agreed with this comment”,”already_disagree”:”You have already Disagreed with this comment”,”already_recommended”:”You have already Recommended this comment”,”already_offensive”:”You have already marked this comment Offensive”,”cant_agree_disagree”:”You can’t Agree and Disagree with the same comment”,”cant_agree_offensive”:”You can’t Agree and mark the same comment Offensive”,”cant_disagree_recommend”:”You can’t Disagree and Recommend the same comment”,”cant_recommend_offensive”:”You can’t Recommend and mark the same comment Offensive”,”permission_facebook”:”You can’t post to facebook. Post permission is required.”,”offensive_reason”:”Please select a reason.”,”offensive_reason_text”:”Please enter a reason.”,”offensive_reason_text_limit”:”Please enter less than 200 chars.”,”be_the_first_text”:”Be the first one to review.”,”no_comments_discussed_text”:”None of the comments have been discussed.”,”no_comments_up_voted_text”:”None of the comments have been up voted.”,”no_comments_down_voted_text”:”None of the comments have been down voted.”};

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here