Get Latest News, India News, Breaking News, Today's News – TODAYNEWSNETWORK.in

TNN (2)
Home Cities Gujarat Assembly Election: Hardik Patel ko supreme rahat to mil gayi lekin kya Gujarat chunav me Congress ko sanjeevani de payenge?, Gujarat Assembly Election: हार्दिक पटेल को सुप्रीम राहत तो मिल गई लेकिन क्या गुजरात चुनाव में कांग्रेस को संजीवनी दे पाएंगे?

Gujarat Assembly Election: Hardik Patel ko supreme rahat to mil gayi lekin kya Gujarat chunav me Congress ko sanjeevani de payenge?, Gujarat Assembly Election: हार्दिक पटेल को सुप्रीम राहत तो मिल गई लेकिन क्या गुजरात चुनाव में कांग्रेस को संजीवनी दे पाएंगे?

Gujarat Assembly Election: Hardik Patel ko supreme rahat to mil gayi lekin kya Gujarat chunav me Congress ko sanjeevani de payenge?, Gujarat Assembly Election: हार्दिक पटेल को सुप्रीम राहत तो मिल गई लेकिन क्या गुजरात चुनाव में कांग्रेस को संजीवनी दे पाएंगे?


अहमदाबाद: गुजरात व‍िधानसभा चुनाव 2022 (Gujarat Assembly Elections) के शंखनाद में अब बस 9 महीने बाकी हैं। इस बीच कांग्रेस के ल‍िए अच्‍छी खबर आई है। गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल (Hardik Patel) को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। इससे उनके व‍िधानसभा चुनाव लड़ने का रास्‍ता साफ हो गया है। इस पर प्रत‍िक्र‍िया देते हुए हार्दिक पटेल ने कहा है क‍ि सिर्फ चुनाव लड़ना ही उनका मकसद नहीं है, बल्कि गुजरात के लोगों की सेवा मजबूती से कर पाऊं, यही मेरा असली मकसद है। वहीं गुजरात फतेह का ख्‍वाब देख रही कांग्रेस की भी बांछे ख‍िल गई हैं। क्‍योंक‍ि गुजरात चुनाव में पटेल वोटबैंक का रुझान क‍िसी से छ‍िपा नहीं हैं। ऐसे में बड़ा सवाल यह है क‍ि क्‍या गुजरात चुनाव में हार्दिक पटेल कांग्रेस को संजीवनी दे पाएंगे?

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने हार्दिक पटेल के खिलाफ आरक्षण आंदोलन मामले में दोषसिद्धि पर रोक लगा दी है। गुजरात में 2015 में पाटीदारों को ओबीसी के तौर पर रिजर्वेशन देने के आंदोलन का पटेल ने नेतृत्व किया था। इसी दौरान हुई हिंसा मामले में उनके खिलाफ केस दर्ज किया गया और उन्हें दोषी करार दिया गया था। गुजरात हाई कोर्ट ने दोषसिद्धि पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट आया है। अदालत से मिली इस राहत के बाद हार्दिक के आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने का रास्ता साफ हो गया है।

2019 लोकसभा चुनाव नहीं लड़ पाए थे हार्दिक पटेल

अदालत ने कहा है कि तथ्यों और परिस्थितियों को देखने के बाद हमारा मत है कि हाई कोर्ट को दोषसिद्धि पर रोक लगानी चाहिए। जब तक अपील पर निर्णय नहीं लिया जाता, तब तक दोषसिद्धि पर रोक लगाई जाती है। पटेल ने दोषसिद्धि पर रोक लगाने की याचिका दायर की थी। पटेल की ओर से सीनियर एडवोकेट मनिंदर सिंह ने दलील दी कि पटेल की सजा को सस्पेंड किया गया था, लेकिन उनकी दोषसिद्धि पर रोक नहीं लगाई गई थी। इसी कारण वह चुनाव नहीं लड़ पा रहे हैं। 2019 के लोकसभा चुनाव में वह चुनाव नहीं लड़ पाए थे।

चुनाव लड़ने का दिया संकेत
सुप्रीम कोर्ट से राहत म‍िलने के बाद गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल ने ट्वीट करके कहा, ‘सिर्फ चुनाव लड़ना ही मेरा मकसद नहीं है, बल्कि गुजरात के लोगों की सेवा मजबूती से कर पाऊं, यही मेरा उद्देश्य है। आज से तीन साल पहले एक झूठे मुकदमे में मुझे दो साल की सजा सुनाई थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने दो साल की सजा पर रोक लगाई है। मैं कोर्ट का दिल से धन्यवाद करता हूं।’

चुनाव से पहले गुजरात के वोटरों तक पहुंचने में जुटे हार्दिक

गुजरात में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव प्रस्‍ताव‍ित है। इसके चलते वोटरों तक पहुंचने के लिए गुजरात कांग्रेस ने खास प्‍लान बनाया है। प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्‍यक्ष हार्दिक पटेल ने जगह-जगह रैली और सभाओं पर जोर दे रहे हैं। इसके साथ ही बूथ स्‍तर की मजबूती के ल‍िए व‍िधानसभा वार तैयारी की जा रही है।

महंगाई, वादाख‍िलाफी को हथ‍ियार बनाने की तैयारी
गुजरात कांग्रेस ने प्रदेश की बीजेपी सरकार के ख‍िलाफ जोरशोर से अभ‍ियान शुरू किया है। महंगाई के ख‍िलाफ आवाज उठाने के साथ ही आम जनता के मुद्दे उठाने पर कांग्रेस का जोर है। इसके ल‍िए ज‍िला कार्यकारणी के साथ ही हार्दिक पटेल व‍िशेषतौर पर जरूरी न‍िर्देश भी दे रहे हैं।

‘बिहार के युवाओं ने जब भी ठानी है, तब सरकार बदली है’, पटना में हार्दिक पटेल ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं में भरा जोश

गुजरात में कब होने हैं चुनाव
गुजरात व‍िधानसभा चुनाव इस साल के आख‍िरी में द‍िसंबर माह में प्रस्‍ताव‍ित है। ऐसे में जहां बीजेपी जोरशोर से जुटी है। वहीं प्रदेश की मुख्‍य व‍िपक्षी पार्टी कांग्रेस इस बार बीजेपी को सत्‍ता से बाहर करने का नारा दे रही है। इसके अलावा आम आदमी पार्टी ने भी म‍िशन गुजरात श‍ुरू क‍िया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here