Get Latest News, India News, Breaking News, Today's News – TODAYNEWSNETWORK.in

TNN (2)
Home Cities Assam News: असम में जहरीला मशरूम खाने से 9 और लोगों की मौत, मरने वालों की संख्‍या हुई 13 – 9 more die of mushroom poisoning in assam, toll rises to 13, know latest update

Assam News: असम में जहरीला मशरूम खाने से 9 और लोगों की मौत, मरने वालों की संख्‍या हुई 13 – 9 more die of mushroom poisoning in assam, toll rises to 13, know latest update

Assam News: असम में जहरीला मशरूम खाने से 9 और लोगों की मौत, मरने वालों की संख्‍या हुई 13 – 9 more die of mushroom poisoning in assam, toll rises to 13, know latest update


डिब्रूगढ़: डिब्रूगढ़: असम में जहरीला मशरूम खाने के कारण हालात डराने वाले हैं। मंगलवार को जहरीला मशरूम खाने से 9 और लोगों की मौत हो गई। इसके साथ ही मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 पर पहुंच गई। दरअसल छह अप्रैल को चराईदेव जिले के लालतीपाथर गांव में जंगली मशरूम खाने के बाद महिला चाय बागान मजदूर और उनके बच्चों समेत कई लोग बीमार पड़ गए थे। एएमसीएच के मुताब‍िक, मरने वालों में एक बच्चे समेत सात चराइदेव जिले के सोनारी इलाके के, पांच डिब्रूगढ़ जिले के बरबरुआ इलाके के और एक शिवसागर जिले के रहने वाले हैं। ज्यादातर पीड़ित चाय बागान समुदाय के थे।

असम मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (Assam Medical College and Hospital) में मंगलवार को नौ और लोगों की मौत हो गई, जिससे मरने वालों की संख्या बढ़कर 13 हो गई। सोमवार को अस्पताल में चार लोगों की मौत हो गई थी। मौतों की पुष्टि करते हुए एएमसीएच के सुपरिटेंडेंट डॉ प्रशांत दिहिंगिया ने कहा कि पिछले पांच दिनों में ऊपरी असम के चराईदेव, डिब्रूगढ़, शिवसागर और तिनसुकिया जिलों से मशरूम के जहर के 35 मरीजों को एएमसीएच में भर्ती कराया गया था, जिनमें से पिछले 24 घंटों में 13 की मौत हो गई।

31 लोगों को कराया गया था भर्ती
डॉ. प्रशांत ने बताया कि उन सभी ने अपने घरों में जंगली जहरीले मशरूम का सेवन किया था और कई घंटे बाद उन्हें जी मिचलाना, उल्टी, पेट में तेज ऐंठन और सांस लेने में तकलीफ हुई। उन्‍होंने कहा क‍ि मशरूम खाने वाले 31 वयस्कों और चार बच्चों को एएमसीएच में भर्ती कराया गया था, जिनमें से 13 मरीजों की मौत हो गई है। एक अन्य नाबालिग मरीज की हालत काफी गंभीर है। डॉ दिहिंगिया ने कहा क‍ि मरने वालों में एक बच्चे समेत सात चराइदेव जिले के सोनारी इलाके के, पांच डिब्रूगढ़ जिले के बरबरुआ इलाके के और एक शिवसागर जिले के रहने वाले हैं। ज्यादातर पीड़ित चाय बागान समुदाय के थे।

मशरूम की खेती का अनोखा तरीका, घर में उगाकर लाखों की कमाई

हर साल आते हैं ऐसे मामले: डॉ दिहिंगिया
डॉ दिहिंगिया ने कहा क‍ि मशरूम के जहर के ज्यादातर मामले चाय बागानों के थे या चाय समुदाय के लोगों के थे। हर साल चाय बागान क्षेत्रों से ऐसे मामले सामने आते हैं। लोग जहरीले मशरूम को खाने योग्य समझ लेते हैं, जिसे वे जंगल से उठाते हैं। ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए मशरूम के सेवन के बारे में जनता को शिक्षित करना बहुत जरूरी है। बारिश के मौसम में ऐसे मामले आम हैं जब जंगलों में मशरूम खिलते हैं। खाने योग्य किस्म और जहरीली, दोनों एक जैसी दिखती हैं, जिसके परिणामस्वरूप ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं होती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here