गोरखनाथ मंदिर पर हमला हिंदी न्यूज: who is murtaza abbsi related to gorakhnath mandir attack गोरखनाथ मंदिर पर हमला करने वाला मुर्तजा अब्बासी कौन है

0
15


अनुराग पांडेय, गोरखपुर: उत्तर प्रदेश के गोरखपुर (gorakhpur) स्थित गोरखनाथ में हुए हमले की जांच एजेंसियां कर रही हैं। इसी क्रम में आरोपी अहमद मुर्तजा अब्बासी (murtaza gorakhnath mandir temple attack) के चाचा डॉ. केए अब्बासी को पूछताछ और बयान दर्ज कराने के लिए ATS ने तलब किया है। लेकिन वह नहीं गए। बल्कि उन्होंने ATS मुख्यालय को ईमेल भेजकर नोटिस का जवाब दिया है। जिसमें उन्होंने धारा 160 CRPC का जिक्र करते हुए कहा है कि उनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक है। ऐसे में वे लखनऊ जाकर बयान दर्ज कराने में असमर्थ हैं। उन्होंने अपना बयान यहीं यानी कि गोरखपुर में दर्ज कराने और मामले की विवेचना से संबंधित पूछताछ करने का ATS से अनुरोध किया है। इतना ही नहीं, डॉ. केए अब्बासी अपना बयान दर्ज कराने खुद यहां गोरखपुर स्थित ATS दफ्तर पहुंच गए। लेकिन यहां किसी सक्षम अधिकारी के नहीं होने की वजह से फिलहाल उनका बयान नहीं दर्ज हो सका।

दरअसल, गोरखनाथ मंदिर हमले के मामले की विवचेना अधिकारी और ATS मुख्यालय के अफसर दिनेश कुमार पांडेय की ओर से नोटिस देकर डॉ. केए अब्बासी को 9 अप्रैल को लखनऊ स्थित ATS मुख्यालय में तलब किया था। इसमें गोरखनाथ मंदिर की घटना का जिक्र करते हुए विवेचक ने विवचेना में पूछताछ और बयान दर्ज कराने के लिए उन्हें तलब किया है।

डॉ. अब्बासी ने दिया बुजुर्ग होने का हवाला
यूपी एटीएस की ओर से नोटिस में यह भी कहा गया है कि निर्धारित तिथि को बयान दर्ज कराने नहीं आने पर धारा 174 के तहत विधिक कार्रवाई भी की जाएगी। लेकिन नोटिस मिलने के साथ ही डॉ. केए अब्बासी ने ATS के नोटिस का ईमेल से जवाब दिया और 160 CRPC के तहत नियमों का हवाला देते हुए कहा कि उनकी उम्र 60 साल से अधिक है। ऐसे में अधिक उम्र के व्यक्ति को नियम के तहत उन्हीं के शहर के में ही बयान दर्ज कराया जाए।

खुद ही पहुंच गए ATS दफ्तर
वे खुद शनिवार की सुबह पुलिस लाइंस स्थित ATS दफ्तर पहुंच गए और वहां मौजूद अधिकारियों के समाने पेश हो गए। हालांकि किसी सक्षम अधिकारी के नहीं होने की वजह से उनका बयान नहीं दर्ज हो सका। ऐसे में अब यह एटीएस तय करेगी कि डॉ. अब्बासी पर धारा 174 के तहत विधिक कार्रवाई करती है या फिर धारा 160 CRPC के तहत गोरखपुर में ही उनसे पूछताछ कर उनका बयान दर्ज करेगी।

मुर्तजा के परिवार से चल रही पूछताछ
गोरखनाथ मंदिर पर हमले के बाद ATS हमले के आरोपी मुर्तजा अहमद अब्बासी के पिता मुनीर अब्बासी और मां को भी साथ ले गई है। मुर्तजा के साथ ही मां- बाप से भी ATS हमले के संबंध में अलग- अलग पूछताछ कर रही है। जबकि इसके अलावा मुर्तजा के संपर्क में रहे लोगों से भी लगातार पूछताछ जारी है।

डॉ. केए अब्बासी से ही मिली थी ATS
मुर्तजा के पिता मुनीर अब्बासी का दावा है कि बीते 2 अप्रैल को जब उनके घर कथित रुप से ATS पहुंची तो टीम की मुलाकात डॉ. केए अब्बासी से ही हुई थी। डॉ. अब्बासी ने ATS वालों से केस से संबंधित कागजात भी मांगे, लेकिन ATS वालों ने कागजात नहीं दिखाए और मुर्तजा को बुलाने को कहा। जब तक डॉ. अब्बासी मुर्तजा को बुलाते, इससे पहले ATS के लोग वहां से निकल गए।

इसके बाद जब मुर्तजा को डॉ. अब्बासी ने इसकी जानकारी दी तो वह घबरा गया और डर की वजह से उसी दिन नेपाल भाग गया। नेपाल से वापस आकर उसने बांसी में अपने रिश्तेदार के घर रात गुजारी और फिर अगले दिन यानी कि 4 अप्रैल की शाम उसने वहीं से 700 रुपए में दो बांका (धारधार हथियार) खरीदा। मुर्तजा के मुताबिक यहां से वह प्राइवेट साधन से सीधा गोरखनाथ मंदिर पहुंचा और यहां सुरक्षा में तैनात पुलिस वालों पर हमला कर दिया।

बयानों का मिलान कराएगी ATS
ऐसे में माना जा रहा है कि ATS वारदात से पहले और वारदात के बाद की सभी बातों के संबंध में डॉ. अब्बासी से पूछताछ करेगी और फिर मुर्तजा और उसके मां- बाप सहित साथियों और रिश्तेदारों से उनके बयान का मिलान कराएगी। क्योंकि अब जल्द ही मुर्तजा की रिमांड अवधि भी पूरी होने वाली है और 11 अप्रैल की रात 8 बजे के पहले उसे वापस जेल में दाखिल कर दिया जाएगा। इसलिए ATS इससे पहले इस कहानी की गुत्थी सुलझाने में लगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here