क्या आपने कभी देखा है Air Purifier वाला पंखा? फीचर्स उड़ा देंगे आपके होश – air purifier fans with remote control have you ever seen fan like this features really shocked you

0
16


गर्मी में ठंडी हवा पाने के लिए मार्केट में नई-नई तकनीक और फीचर वाले पंखे व कूलर मौजूद हैं। इन्हें ऑन-ऑफ करने और स्पीड कंट्रोल करने के लिए बार-बार उठकर स्विच बोर्ड तक जाने की कोई जरूरत नहीं होती। रिमोट या स्मार्टफोन के जरिए इन्हें कंट्रोल किया जा सकता है। साथ ही इनमें ऐसी तकनीक भी आ गई है जो बिजली की काफी बचत करती है। पंखों और कूलर में आई नई तकनीक के बारे में बता रहे हैं राजेश भारती

पंखों का काम अब सिर्फ हवा देना ही नहीं रहा। पंखे भी अब स्मार्ट हो गए हैं। पहले आप पंखों पर नजर रखते थे, अब पंखे आप पर नजर रखते हैं। यही नहीं, अब मार्केट में ऐसे भी पंखे आ रहे हैं जो न केवल कमरे की हवा को साफ करते हैं बल्कि इन पर धूल-मिट्टी भी कम जमती है। जानें, किस-किस प्रकार के पंखे मार्केट में मौजूद हैं:

Air Purifier Fans
(एयर प्यूरीफायर वाला पंखा)
कमरे की छत में लगा पंखा न सिर्फ ठंडी-ठंडी हवा देगा बल्कि हवा भी साफ देगा। इसके लिए पंखों में एयर प्यूरीफायर लगा हुआ है। कंपनी का दावा है कि यह पंखा PM 2.5 और PM 10 पार्टिकल्स को फिल्टर करने का दावा करता है। इसके लिए पंखे में HEPA फिल्टर, ऐक्टिवेटेड कार्बन और प्री-फिल्टर लगे हैं जो हवा में मौजूद ज्यादातर हानिकारक कणों को सोख लेते हैं। कंट्रोल के लिए पंखे में रिमोट दिया गया है।
कीमत: 33265 रुपये
कंपनी: Havells

BLDC तकनीक वाले पंखे
छत के पंखों में BLDC (Brushless Direct Current) तकनीक बिजली बचाने के लिए इस्तेमाल की जाती है। इन्हें रिमोट से कंट्रोल किया जाता है। BLDC पंखों की खासियतें इस प्रकार हैं:
– घर में बिजली की वोल्टेज कम या ज्यादा आने से पंखे की स्पीड पर फर्क नहीं पड़ता। यह उसी स्पीड पर चलेगा जो आपने रिमोट के जरिए फिक्स की है।
– साधारण पंखे जहां एक घंटे में 75 से 90 वॉट बिजली की खपत करते हैं तो वहीं BLDC तकनीक वाले पंखे 26 से 35 वॉट। इसलिए इनका बिजली का बिल कम आता है।
– इन पंखों की कीमत साधारण पंखों के मुकाबले कुछ ज्यादा है। इनकी शुरुआती कीमत 2500 रुपये है जबकि साधारण पंखा 1200 रुपये में आ जाता है।
– Bajaj, Crompton, Orpat, Havells, USHA आदि कंपनियों के BLDC तकनीक वाले पंखें मार्केट में मौजूद हैं।

BLDC पंखे चलाने पर हर महीने होगी इतनी बचत
अगर किसी घर में 3 साधारण पंखे लगे हैं। ये पंखे दिन में 10 घंटे चलते हैं। मान लें कि हर पंखा 75 वॉट का है। वहीं दूसरे घर में BLDC तकनीक वाले 3 पंखे लगे हैं। ये पंखे भी दिन में 10 घंटे चलते हैं। ऐसा हर पंखा 30 वॉट का है।
जब साधारण पंखे हों…
– 1 पंखा 10 घंटे चलने पर बिजली की खपत करेगा:
75×10=750 वॉट
– 3 पंखे 10 घंटे तक चलने में कुल खपत होगी:
750×3= 2250 वॉट
चूंकि 1000 वॉट= 1 यूनिट इसलिए कुल बिजली की खपत:
2250 वॉट= 2.25 यूनिट
– अगर बिजली की दर 7 रुपये प्रति यूनिट है तब 2.25 यूनिट का बिल:
2.25×7= 15.75 रुपये
– 1 महीने में कुल खर्च:
15.75×30= 472.50 रुपये
जब BLDC पंखे हों…
– 1 पंखा 10 घंटे चलने पर बिजली की खपत करेगा:
30×10=300 वॉट
– 3 पंखे 10 घंटे तक चलने में कुल खपत होगी:
300×3= 900 वॉट
चूंकि 1000 वॉट= 1 यूनिट इसलिए कुल बिजली की खपत
900 वॉट= 0.90 यूनिट
– अगर बिजली की दर 7 रुपये प्रति यूनिट है 0.90 यूनिट का बिल:
0.90×7= 6.30 रुपये
– 1 महीने में कुल खर्च:
6.30×30= 189 रुपये
(इस प्रकार अगर घर में साधारण पंखों के मुकाबले BLDC तकनीक वाले 3 पंखे हैं तो बिजली के बिल में एक महीने में 283.50 रुपये की बचत होगी।)

पोर्टेबल पंखे
आप सफर में भी पंखा साथ लेकर चल सकते हैं। ये पंखे इतने छोटे होते हैं कि इन्हें पिट्ठू बैग (पीठ पर टांगने वाला बैग) में भी रखा जा सकता है। इन्हें पर्सनल या मिनी फैन भी कहते हैं। ये पंखे बैटरी से चलते हैं। बैटरी फुल चार्ज होने पर 3 से 4 घंटे का बैकअप दे सकती है यानी इन्हें 3 से 4 घंटे तक चलाया जा सकता है।
कीमत: 1000 रुपये से शुरुआत
कंपनी: Bajaj, Havells, Honeywell आदि।

वाई-फाई तकनीक वाले
रिमोट और वाई-फाई से चलने वाले भी पंखे मार्केट में मौजूद हैं। इनकी खासियत है कि इन्हें स्मार्टफोन के जरिए दुनिया के किसी भी कोने से कंट्रोल कर सकते हैं। इसके लिए पंखे का ऐप स्मार्टफोन में इंस्टॉल करना होता है। वाई-फाई वाले कुछ पंखों में वॉयस कमांड फीचर भी दिया है यानी ऐमजॉन एलेक्सा या गूगल असिस्टेंट के जरिए इन्हें बोलकर भी कंट्रोल कर सकते हैं।
कीमत: 3000 रुपये से शुरू
कंपनी: LG, Candes, Crompton, Luminous आदि।

साधारण पंखे को ऐसे बनाएं वाई-फाई
अगर आपके घर में साधारण पंखे हैं तो उन्हें वाई-फाई बना सकते हैं। मार्केट में वाई-फाई एनेबल्ड स्मार्ट स्विच मौजूद हैं, जिन्हें अपने पंखे से कनेक्ट करके आप उसे स्मार्ट फैन बना सकते हैं। वाई-फाई वाले कुछ स्विच ऐसे आते हैं जिनकी मदद से आप घर की एक से ज्यादा डिवाइस भी कनेक्ट कर सकते हैं। इन्हें आप घर के साधारण इलेक्ट्रिक बोर्ड में भी लगा सकते हैं। हालांकि इन्हें इस्तेमाल करने पर बिजली के बिल का बोझ कुछ ज्यादा आता है। ये करीब 100 वॉट के होते हैं। 10 घंटे इस्तेमाल पर 1 यूनिट बिजली खर्च होती है। इस कारण इन्हें लगाना महंगा पड़ता है।
कीमत: 2000 रुपये से शुरू, कंपनी: Tata Power, Denler, TP-Link आदि।

धूल प्रतिरोधक (एंटी-डस्ट)
मार्केट में ऐसे भी पंखे मौजूद हैं जिन पर धूल-मिट्टी बहुत ज्यादा जमती नहीं है। धूल-मिट्टी जमने से साधारण पंखों पर जो निशान बन जाते हैं, वे निशान इन पर नहीं दिखते। वैसे कहा जाता है एंटी-डस्ट पंखों पर धूल-मिट्टी जमती नहीं है, जो पूरी तरह गलत है। इन पंखों पर भी धूल-मिट्टी जमती है लेकिन साधारण पंखों के मुकाबले बहुत कम। कंपनी का दावा होता है कि इन पर जमी धूल-मिट्टी गीले कपड़े से आसानी से साफ हो जाती है और कोई दाग-धब्बा भी नहीं रहता। अगर किचन में एंटी-डस्ट तकनीक वाला पंखा लगा है तो उस पर तेल के कुछ निशान आ जाते हैं। इन्हें आसानी से डिटर्जेंट के पानी से छुड़ा सकते हैं। हालांकि पंखे को साफ करने के लिए कई प्रकार के केमिकल मार्केट में मौजूद हैं। इन केमिकल को निर्देशानुसार ही इस्तेमाल करें, क्योंकि हो सकता है कि इससे पंखे के कलर या उसकी चमक को कुछ नुकसान हो जाए।
कीमत: 1300 रुपये से शुरू
कंपनी: Bajaj, Candes, USHA, Crompton, Havells, Finolex आदि।

कूलर भी कम नहीं
नई तकनीक के मामले में कूलर भी कम नहीं हैं। मार्केट में ऐसे कूलर मौजूद हैं जो न केवल रिमोट या ऐप से कंट्रोल होते हैं बल्कि उनमें लगे हनीकोम पैड भी एंटी बैक्टीरिया वाले आ रहे हैं। कूलर में आई नई तकनीकें इस प्रकार हैं:

रिमोट और ऐप से कंट्रोल
रिमोट के जरिए कूलर को ऑन-ऑफ करने से लेकर, उसमें लगे फैन की स्पीड को भी कम या ज्यादा, मोटर को बंद या चालू आदि कर सकते हैं। वहीं वाई-फाई से कूलर को कनेक्ट करके ऐप के जरिए उसे दुनिया के किसी भी कोने से कंट्रोल कर सकते हैं। कूलर चलते समय बिजली कितनी खर्च हो रही है, कितनी स्पीड पर चल रहा है आदि जैसी जानकारी ऐप पर आती रहती है।
कीमत: 7000 रुपये से शुरू
कंपनी: Kenstar, Orient, Symphony आदि।

5 पहिए वाले कूलर
अब ऐसे भी कूलर आ रहे हैं जिनमें 4 की जगह 5 पहिए होते हैं। हालांकि 5 पहिए उन्हीं कूलर में होते हैं जिनमें पानी के टैंक की क्षमता 65 या इससे ज्यादा लीटर की है। पानी की ज्यादा क्षमता का टैंक होने पर कूलर के टैंक का निचला हिस्सा दब जाता है। इससे न केवल कूलर का बैलेंस बिगड़ता है बल्कि पानी भरा होने पर कूलर को इधर-उधर खिसकाना भी मुश्किल हो जाता है। 5 पहिए होने से ऐसा नहीं होता।
कीमत: 11 हजार रुपये से शुरू
कंपनी: Bajaj, Thomson आदि।

एंटी-बैक्टीरियल पैड वाले कूलर
ज्यादातर कूलरों में अब हनीकोम पैड आ रहे हैं। कंपनियां अब इन पैड को भी लगातार अपग्रेड कर रही हैं। इसी में अब कंपनियां एंटी-बैक्टीरियल हनीकोम पैड बना रही हैं। इन पैडों की खासियत है कि ये न तो जल्दी खराब होते हैं और न ही इनसे बदबू आती है। इस कारण कमरे में भी किसी प्रकार की दुर्गंध नहीं रहती। वहीं ये पैड 3 से 4 साल आराम से चल जाते हैं।
कीमत: 8000 रुपये से शुरू
कंपनी: Crompton, Bajaj, Sansui आदि।

ये फीचर भी हैं कूलर में
– काफी कूलर में अब एक आइस चैंबर रहा आ रहा है। जब ज्यादा गर्मी हो तो इसमें बर्फ भर दें। कूलर का पानी मोटर के जरिए इस चैंबर में आता है जो बर्फ से टकराकर पैड्स से होता हुआ कूलर के टैंक में ही चला जाता है। इससे पैड्स ठंडे हो जाते हैं और इनसे होकर आने वाली हवा और ठंडी लगने लगती है।
– कई बार मच्छर या कीड़े कूलर में चले जाते हैं। जब कूलर चल रहा हो तो ये कीड़े हवा के साथ शरीर से टकरा जाते हैं। वहीं काफी मच्छर या कीड़े मरकर कूलर के टैंक में गिर जाते हैं। कई बार इनसे पानी में बदबू आने लगती है। इन मच्छरों या कीड़ों को रोकने के लिए जाली वाले कूलर भी मार्केट में मौजूद हैं।
– अब इन्वर्टर तकनीक वाले कूलर भी मार्केट में हैं। इनमें एक सेंसर लगा होता है। जब कमरा ज्यादा ठंडा हो जाता है तो इसमें लगी पानी की मोटर बंद हो जाती है और फैन की स्पीड कम हो जाती है। जैसे-जैसे कमरे का तापमान बढ़ता है, पहले फैन की स्पीड बढ़ती है और बाद में पंप भी चालू हो जाता है।
– ऐसे कूलर भी आ गए हैं जो बहुत दूर तक हवा देते हैं। इन कूलर की मोटर में थ्रस्ट नाम की ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया गया है जो 40 फुट या इससे ज्यादा दूर तक हवा देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here